भारत की अर्थव्यवस्था में कथित रूप से उछाल आई है और अब २०१८-१९ की पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में ८.२% की वृद्धि दर्ज कर रहा है जो पिछली तिमाही में ७.७% से ०.५% अधिक है।

नोटबंदी तथा वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) के प्रदर्शन और कार्यान्वयन के प्रभाव के कारण कुछ समय के लिए GDP में गिरावट आई. इसके पश्चात, भारतीय अर्थव्यवस्था ने GDP में वापसी उछाल करते हुए वित्तीय वर्ष २०१८-१९ की पहली तिमाही में ८.२% की वृद्धि दर्ज कि, जो कि पिछली तिमाही में ७.७% से ०.५% अधिक है। उत्पादन, खेत और निर्माण के क्षेत्र में मजबूत प्रदर्शन और निजी उपभोग व्यय में वृद्धि के कारण अर्थव्यवस्था को गतिशीलता मिली है।

Indian Economy

GDP की वृद्धि दर में यह उपलब्धि निश्चित रूप से सराहनीय है। पिछले कुछ सालों में अर्थव्यवस्था में आए बदलाव को सरकारी कार्यकर्ताओं ने ’ढांचागत परिवर्तन’ को श्रेय दिया है। हालांकि, क्या यह विकास सतत है? और इक्विटी के बारे क्या?

मुद्रास्फीति की दर अधिक है। नतीजतन, बैंक ऋण दरों में उच्च हैं। इसके अलावा, भारतीय रुपयों (आईएनआर) का कमजोर होना (अमरीकी डालर के मुकाबले) और पिछले तीन वर्षों में भारतीय रुपयों का सबसे निचले स्तर पर पहुंचना; लगभग ३.५% गिर गया है। २०१८ की शुरुआत से, इसके मूल्य में लगभग १० प्रतिशत की ह्रास हुई है। इसकी वजह से आयात बिलों में आए चढ़ाव के कारण महत्वपूर्ण व्यापार में घाटा बढ़ गया है। अस्थिर तेल की कीमतों में बढ़ोतरी, जनता की पूंजी पर उच्च ब्याज और रुपए की कमी प्रमुख चिंताएं हैं।

इक्विटी फ्रंट पर, गिनी गुणांक बढ़ गया है जिसका अर्थ है आय असमानता में वृद्धि। कुछ आंकड़े बताते हैं कि सबसे अमीर १०% भारतीय, भारत के ८०% धन के मालिक है। जनसंख्या की एक चौथाई गरीबी रेखा से नीचे रह रही है जिसमे हर सदस्य $ १.९० प्रति दिन से कम कमाता है। धन एकाग्रता और आय असमानता में वृद्धि की उच्च दर पर ध्यान देना चाहिए। भारत में आय असमानता अंतर आगे बढ़ रहा है और यह एक समृद्ध अर्थव्यवस्था का संकेत नहीं है बल्कि एक अस्थिर आर्थिक प्रणाली है। अर्थव्यवस्था के मजबूत विकास को बनाए रखने के लिए इस तरह के मुद्दों को निपटाया जाना चाहिए।

इन कमियों के बावजूद, भारत में लोकतांत्रिक संस्थानों, जनसांख्यिकीय लाभांश और उद्यमियों का एक बड़ा पूल तथा वैज्ञानिक और तकनीकी श्रमिकों के संपन्न होने के फायदे हैं जो भारत की आर्थिक सफलता की कहानी में एक बड़ा अंतर डाल सकते हैं। हाल ही में दर्ज की गई जीडीपी वृद्धि दर ८.२% सही दिशा में एक प्रवृत्ति हो सकती है और उम्मीद है कि औद्योगिक विकास की निरंतर अवधि अग्रसर बनी रहे। विकास की गति को स्थिर करने के लिए सुधार और तेज नीति निर्णयों को अपनाना होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here